रादौर – इंकलाब मंदिर में शहीद मंगल पांडे को बलिदान दिवस पर किया याद

4
ख़बर सुने
🔔 वीडियो खबरें देखने के लिए 👉 यहां क्लिक करें 👈और हमारे चैनल को सब्सक्राइब व 🔔 का बटन दबा कर तुरंत पाए ताजा खबरों की अपडेट

रादौर, 8 अप्रैल (कुलदीप सैनी) : गांव गुमथला राव स्थित इंकलाब मंदिर में 1857 की क्रांति के जनक शहीद मंगल पांडे का बलिदान दिवस मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता एथलीट शेर सिंह मलिक ने की। मंदिर संस्थापक अधिवक्ता वरयाम सिंह के नेतृत्व में लोगों ने शहीद मंगल पांडे की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया और उनके जीवन से प्रेरणा लेकर देशहित में कार्य करने का प्रण लिया। वरयाम सिंह ने कहा कि 1857 में सबसे पहले क्रांतिकारी मंगल पांडे ने अंग्रेजी शासन का विरोध किया था। उन्होंने सैनिकों को दिए जाने वाले कारतूस पर गाय व सुअर की चर्बी लगे होने का विरोध किया। उनका यह कार्य 1857 की क्रांति का मुख्य कारण बना। इसलिए उन्हें 1857 की क्रांति का जनक माना जाता है। हालांकि बाद में मंगल पांडे देश के लिए शहीद हो गए लेकिन तब तक उन्होंने देश के लोगों में अंग्रेजों से छुटकारा पाने के लिए क्रांति के बीज बो दिए थे। यही क्रांति आगे चलकर एक बड़ी आजादी की लड़ाई में तब्दील हुई। देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीद हमारी धरोहर है। इसलिए हमें अपनी इस धरोहर का सम्मान करना चाहिएं। यह उनके लिए सच्ची श्रद्धांजलि है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here