रादौर – पढ़िए पेंशन रुकने का बड़ा कारण,  दोबारा पैंशन शुरू करवाने के लिए देने होगें ये दस्तावेज

379
ख़बर सुने
🔔 वीडियो खबरें देखने के लिए 👉 यहां क्लिक करें 👈और हमारे चैनल को सब्सक्राइब व 🔔 का बटन दबा कर तुरंत पाए ताजा खबरों की अपडेट

रादौर, 17 जुलाई (कुलदीप सैनी) : पिछले करीब दो महीने से पेंशन धारक पैंशन न मिलने से परेशान है। लेकिन उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि उनकी पैंशन किस कारण रोकी गई है। जिसको लेकर वह कभी बैंक तो कभी पैंशन कार्यालय में चक्कर लगाने पर विवश है। आज का यह समाचार उन लोगों के लिए खास है जिनकी पैंशन रूकी हुई है और वह उसका कारण जानना चाहते है। विभागीय सुत्रों से मिली जानकारी के आधार पर पैंशन को फैमिली आईडी से लिंक करते हुए एक बड़ी गड़बड़ी हुई है। जिससे जिले के करीब 36 हजार के करीब पैंशन धारक प्रभावित हुए है। फैमिली आईडी पैंशन से लिंक करते समय अधिकांश लोगों को बिना किसी तथ्यों के सेवानिवृत कर्मचारी दिखाया गया है। जबकि कुछ के परिवार की आमदन 2 लाख से अधिक दिखाई गई है। यही कारण है कि उनकी पैंशन विभाग की ओर से रोक दी गई है। अकेले रादौर ब्लाक की बात कर तो यहां करीब 4500 पैंशन धारक ऐसे है जो इस सूची में आए है। जिस कारण वह विभाग की इस लापरवाही का खामियाजा पैंशनधारक भुगत रहे है। परेशान पैंशनधारकों ने जल्द से जल्द इसे दरूस्त करवाने की मांग की है।

दोबारा पैंशन शुरू करवाने के लिए यह देने होगें दस्तावेज
विभाग की ओर से एक सूची तैयार की गई है जिसमें ऐसे लोगों के नाम है जिनकी पैंशन रोकी गई है। उस सूची में जिन लोगों के नाम गलत तरीके से आए है उन्हें दोबारा पैंशन शुरू करवाने के लिए अब अपनी फैमिली आईडी, आधार कार्ड व एक एप्लीकेशन विभाग के कार्यालय में जमा करवानी होगी। जिसके बाद विभाग इन खामियों को दूर करने की प्रक्रिया शुरू करेगा। जिसके बाद ही पैंशन दोबारा चालू हो सकेगी।

लोगों में रोष-बोले स्थानीय स्तर पर लिए जाए जरूरी कागजात
पैंशनधारक रामबाबू , श्यामलाल सैनी, चंदो देवी, सत्यादेवी, बिमलेश, कमला देवी, बैनी प्रसाद, दीपचंद इत्यादि ने बताया कि उनकी पैंशन करीब दो माह से रूकी हुई है। लेकिन अब बताया जा रहा है कि विभागीय लापरवाही के कारण उनकी पैंशन रूकी है। जिसे दुरुस्त करवाने के लिए हमें अब यमुनानगर कार्यालय के चक्कर लगाने होगें। यह गलत है। अधिकतर पैंशन धारक महिलाएं व बुजुर्ग है, जो कार्यालय के चक्कर नहीं लगा सकते। पूरे जिले से लोग अगर एक ही जगह पर जमा होंगे तो वहां पर भीड़ भाड़ से भी परेशानी होगी। विभाग को गांव स्तर पर इस कार्य को दुरुस्त करने के लिए अभियान चलाना चाहिए। ताकि लोगों को परेशानी न हो।

क्या कहते है  समाज कल्याण अधिकारी
डाटा गलत उठाए जाने से पैंशने रूकी है। इसको दुरूस्त करवाने के लिए विभाग प्रयास में लगा है। जिसके लिए डाटा की दोबारा मेंचिग की जा रही है। पैंशनधारक को अपनी फैमिली आईडी व आधार कार्ड उपलब्ध करवाना होगा। जिससे रूकी पैंशन दोबारा चालू हो सकेगी।  विनोद कुमार, जिला समाज कल्याण अधिकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here