रादौर – ब्राह्मण धर्मशाला में क्रांतिकारी शहीद मंगल पांडे को शहादत दिवस पर किया गया नमन

88
ख़बर सुने
🔔 वीडियो खबरें देखने के लिए 👉 यहां क्लिक करें 👈और हमारे चैनल को सब्सक्राइब व 🔔 का बटन दबा कर तुरंत पाए ताजा खबरों की अपडेट

रादौर, 8 अप्रैल (कुलदीप सैनी) : ब्राह्मण धर्मशाला में शुक्रवार को महान क्रांतिकारी शहीद मंगल पांडे का शहीदी दिवस मनाया गया। इस अवसर पर क्रांतिकारी शहीद मंगल पांडे की वंशज शीतल पांडे की देखरेख में स्थानीय लोगों ने क्रांतिकारी मंगल पांडे के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया। इस अवसर पर शीतल पांडे ने बताया कि शहीद मंगल पांडे का जन्म 19 जुलाई 1827 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के नगवा गांव में हुआ था। वह अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी के बंगाल नेटिव इन्फेंट्री (बीएनआई) के 34वें सैन्य दल में एक भारतीय सिपाही के रूप में भर्ती हुए थे। मंगल पांडे भारतीय इतिहास में हुई पूर्व घटनाओं को जानने और ब्रिटिश अधिकारियों पर हमला करने के लिए अंग्रेजी ईस्ट इंडिया कंपनी में शामिल हुए। 1857 में हुए सैन्य विद्रोह को ब्रिटिश लोगों ने इसे भारतीय स्वतंत्रता की पहली लड़ाई का रूप दे दिया। 29 मार्च 1857 को कोलकाता के निकट बैरकपुर में, मंगल पांडे ने ब्रिटिश सेना पर हमला किया और एक सहायक को घायल करने के अलावा एक ब्रिटिश हवलदार को भी घायल कर दिया। एक देशी सिपाही ने मंगल पांडे को सेनापति और सार्जेंट मेजर की हत्या करने से रोकने का प्रयास किया। मंगल पांडे को गिरफ्तार कर लिया गया और मौत की सजा सुनाई गई। 8 अप्रैल 1857 को आज के दिन  मंगल पांडे को फांसी दे दी गई थी। इस अवसर पर शीतल पांडे, संदीप सैनी, सतीश सैनी, मुकेश अरोड़ा मक्की, विक्रम वाल्मीकि, सतीश बठला आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here