रादौर – यमुनानदी का जलस्तर कम होने के बाद भूमि कटाव शुरू, सैंकड़ो एकड़ फसल जलमग्न

85
ख़बर सुने
🔔 वीडियो खबरें देखने के लिए 👉 यहां क्लिक करें 👈और हमारे चैनल को सब्सक्राइब व 🔔 का बटन दबा कर तुरंत पाए ताजा खबरों की अपडेट

रादौर, 12 अगस्त (कुलदीप सैनी) : पहाड़ी क्षेत्रों में हुई बारिश के बाद बढ़ा यमुना नदी का जलस्तर अब कम होना शुरू हो गया है। यमुना नदी में धीरे धीरे अब पानी कम होने से किसानों ने भी राहत की सांस ली है। यमुनानदी में आए पानी के बाद यमुनानदी पार करीब 250 से 300 एकड़ भूमि जलमग्न हो गई। जिससे उस पर खड़ी हरे चारे, मक्की, तिल व सब्जी की फसल खराब हो गई। जबकि धान व गन्ने की फसल को हुए नुकसान का आकंलन करना अभी मुश्किल है। आगामी एक या दो दिनों में इसका सही आंकलन हो सकेगा। उधर यमुनानदी के कच्चे किनारों पर भूमि का कटाव भी शुरू हो गया है। जिससे किसानों की भूमि यमुनानदी में समा रही है। किसानों का कहना है कि अगर कटाव अधिक हुआ तो उन्हें इससे भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।
गांव गुमथला के पूर्व सरपंच सुरजीत सिंह भूरा ने बताया कि यमुनानदी के पानी से सैंकड़ों एकड़ फसल जलमग्न हुई है। लेकिन अभी केवल 30 से 35 एकड़ में खड़ी हरे चारे, मक्की व तिल की फसल को नुकसान हुआ है। उसके खेत में भी करीब डेढ एकड़ तिल की फसल खराब हो गई। उसके अलावा किसान राजपाल का दो एकड़ हरा चारा, बुलीराम का 2 एकड़, शिवकुमार के करीब डेढ एकड़, प्रकाश चंद का करीब एक एकड़, परमजीत का आधा एकड़, मलकीत सिंह का एक एकड़, हरप्रीत सिंह का डेढ़ एकड़, सतनाम का एक एकड़ व मामूराम का करीब एक एकड तिल की फसल खराब हो गई। जबकि किसान प्रकाश चंद का हरा चारा, मामूराम की सब्जी भी इस पानी के कारण बर्बाद हुई है। जिससे उन्हें लाखों का नुकसान उठाना पड़ा है।
यमुनानदी का जलस्तर जैसे जैसे कम हो रहा है वैसे ही भूमि कटाव में भी तेजी आ रही है। जिससे किसानों की भूमि यमुनानदी में समां रही है। किसान सुरजीत सिंह, सतनाम सिंह व मनोज कुमार ने बताया कि इस वर्ष में यह सबसे अधिक पानी आया है। जिससे न केवल किसानों की फसलों तक पानी पहुंचा है वहीं अब किसानों को भूमि कटाव की समस्या का सामना भी करना पड़ेगा। जिससे किसानों की बेशकीमती भूमि यमुनानदी में समां जाएगी और किसान हाथ पर हाथ धरे रह जाएगें। सरकार ने अभी तक ऐसा कोई प्रबंध नहीं किया है जिससे कि भूमि कटाव को रोका जा सके। जबकि किसान लगातार इसकी मांग करते आ रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here