रादौर – यमुनानदी का जलस्तर कम होने के बाद किसानों ने ली राहत की सांस, किनारों पर दिखे कटाव के निशान

16
ख़बर सुने
🔔 वीडियो खबरें देखने के लिए 👉 यहां क्लिक करें 👈और हमारे चैनल को सब्सक्राइब व 🔔 का बटन दबा कर तुरंत पाए ताजा खबरों की अपडेट

रादौर, 27 सितंबर (कुलदीप सैनी) : यमुनानदी का बढ़ा जलस्तर मंगलवार को कम हो गया। जलस्तर कम होने के बाद किसानो के खेतों में जमा हुआ पानी भी अब आगे की ओर निकल गया है। जिससे किसानों ने राहत की सांस ली है। लेकिन जैसे जैसे पानी कम हो रहा है किनारों पर कटाव के निशान भी दिखाई देने लगे है। यमुनानदी के पानी के कारण किनारो की हालत काफी खस्ताहाल हो चुकी है। बताया जा रहा है कि यमुनानदी पर बन रहे पुल के आसपास भी किनारों का काफी हद तक नुकसान पहुंचा है। वहीं दूसरी ओर किसानों की फसलों को भी भारी नुकसान होने का अनुमान है। किसानों ने सरकार से मुआवजे की मांग की है।

       किसान सतनाम सिंह, सर्वजीत सिंह, बूटा सिंह, शुभम संधाला, अमरजीत संधाला इत्यादि ने बताया कि यमुनानदी का जलस्तर बढ़ने के बाद क्षेत्र की सैकड़ों एकड़ भूमि पानी से जलमग्न हो गई थी। जिससे धान, गन्ने, हरे चारे व तिल की फसल में पानी जमा हो गया था। गन्ने की फसल तो इस पानी से काफी हद तक बचने के आसार है लेकिन धान, हरे चारे व तिल की फसल में भारी नुकसान होगा। इससे किसानों के समक्ष हरे चारे का संकट भी खड़ा हो जाएगा। खेतों में रेत जम जाने से तिल व धान की फसल भी बर्बाद हो जाएगी। जिससे किसानों को हजारों रुपए प्रति एकड़ का नुकसान उठाने पर विवश होना होगा। जिसको लेकर किसानों ने सरकार से मुआवजे की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here